प्रशासन के निर्देश से खनन माफियाओं की आई शामत - लगातार कार्रवाई से खौफजता खनन माफिया, लगातार हो रही कार्रवाई

 






       (निहारिका वाणी)

लगातार कार्रवाई से खौफजता खनन माफिया, लगातार हो रही कार्रवाई


शाजापुर। प्रदेश सरकार द्वारा इन दिनों माफियाओं को निशाना बनाया जा रहा है। इसी कड़ी में शासन को राजस्व की हानि पहुंचाने वाले खनिज माफियाओं की भी इन दिनों शामत आई हुई है। कलेक्टर के निर्देश पर खनिज अधिकारी और खनिज इंस्पेक्टर ने खनन माफियाओं पर शिकंजा कस रखा है। यही कारण है कि इन अधिकारियों की मौजूदगी से वर्तमान में अवैध खनन माफियाओं का धंधा चौपट होने की कगार पर है।



कलेक्टर दिनेश जैन के निर्देश पर माफियाओं के खिलाफ विभिन्न विभागों के अधिकारियों द्वारा अभियान चलाया जा रहा है।

 जिसमें खनिज विभाग की टीम की सक्रियता से अवैध खनिज उत्खनन पर रोक लगी हुई है। जबकि इसके पहले खनिज माफिया लगातार खदानों की खुदाई कर खनिज संपदा का लगातार दोहन कर रहे थे। 

इसे लेकर कलेक्टर दिनेश जैन ने खनिज अधिकारी आरके उईके व खनिज इंस्पेक्टर कामना गौतम को निर्देशित किया था। जिसके पालन में गत दिनों इनकी टीम ने पूरे जिले में अभियान चलाकर खनन माफियाओं की नाक में दम कर रखा है। पूरे जिले में यूं तो 64 खदाने लीज पर हैं जो शासन को बिना रॉयल्टि के लगातार शासन को राजस्व का चूना लगा रहे थे। जिससे हर माह लाखों का नुकसान उठाना पड़ रहा था। इसे देखते हुए कलेक्टर ने अधिकारियों को कार्रवाई के निर्देश देते हुए राजस्व वसूली के निर्देश दिए थे। नतीजन खनिज अधिकारी श्री उईके और इंस्पेक्टर सुश्री गौतम ने अभियान चलाकर कार्रवाई का सिलसिला शुरु किया। परिणामस्वरूप अवैध खनिज उत्खननकर्ताओं के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है। अब तक टीम ने शुजालपुर, शाजापुर, कालापीपल, मक्सी, मोहन बड़ोदिया, अकोदिया सहित दो दर्जन से अधिक क्षेत्रों में अवैध खनन व परिवहन पर कार्रवाई करते हुए बिना रॉयल्टि वाले वाहनों को जब्त किया है।
लक्ष्यपूर्ति में जुटी टीम, पचास प्रतिशत तक हुई वसूली
अवैध परिवहन और खनन से शासन को लगातार हानि हो रही थी। जबकि प्रशासन ने खनिज विभाग को अप्रैल से मार्च तक की अवधि के लिए 8 करोड़ का टारगेट दिया था। हालांकि कोरोना काल की वजह से इस लक्ष्य की पूर्ति आसान नहीं थी। एक तरफ कोरोना काल और दूसरी तरह अवैध खनन माफियाओं की दादागिरी। बावजूद इसके टीम ने अब तक करीब 3 करोड़ रुपए की वसूली की जा चुकी है और अभी भी टीम द्वारा पुलिस, राजस्व और प्रशासन के सहयोग से खनिज अधिकारी आरके उईके, इंस्पेक्टर कामना गौतम, तहसीलदार मुन्ना अड़ द्वारा लगातार कार्रवाई कर वाहनों को जब्त कर लिया गया है।
खनिज इंस्पेक्टर के भय से भूमिगत हुए खनन माफिया
जिले में अब तक दर्जनों चालकों पर कार्रवाई की जा चुकी है। परिणाम स्वरूप जिले के खनन माफियाओं को वर्तमान में अपने अवैध धंधों पर विराम लगाने पर मजबूर कर दिया है और वर्तमान में वे मुख्य धारा से हटकर भूमिगत हो चुके हैं। सुश्री गौतम ने बताया कि कार्रवाई लगातार जारी है और आगे भी यह सिलसिला जारी रहेगा और अवैध उत्खननकर्ताओं को फिर से खतरे में डाल दिया जाएगा।

Popular posts from this blog

बड़नगर की होटल शिव पैलेस में, पुलिस ने दी दबिश, एक युवक युवती को संदिग्ध अवस्था में लिया हिरासत में

रिश्वत कांड में टी, आई, अर्चना नागर एवं एस ,आई, जीवन भिडोरे सहीत तीन को किया पुलिस लाईन संबद्ध "मामला बड़नगर पुलिस थाने का"

पूर्व विधायक गंगाराम परमार का हुआ निधन,शोक लहर छाई