जनपद पंचायत हरदा के खंड पंचायत अधिकारी ,सुमरत लाल उइके का ह्दय गति रुकने से हुआ निधन। सीईओ पर लग रहा है प्रताडना का आरोप-


सीईओ पर लग रहा है प्रताडना का आरोप-



हरदा / नर्मदा पुरम होशंगाबाद संभाग के हरदा जिलें की जनपद पंचायत हरदा में पदस्थ, खंड पंचायत अधिकारी श्री सुमरत लाल उइके का दिनांक 27/ 6 /2020 को कर्तव्य स्थल से घर लोटने के पश्चात ,रात्रि में दो पहर पश्चात ह्रदय गति रुकने से निधन हो गया ।


🔷 श्री उइके के दूखद निधन की जानकारी जैसे ही त्रिस्तरीय पंचायत राज व्यवस्था के अधिकारी कर्मचारीयो को लगी, शोक की लहर छा गई है ।


 


🔷 मुख्य कार्यपालक अधिकारी ज,पं,हरदा कुमारी नीलम रायकवार की प्रताडना से थे परेशान दिवंगत खंड पंचायत अधिकारी सुमरत लाल उइके द्वारा मु,का,अधिकारी ज,पं, हरदा को किया गया पत्राचार हो रहा है सोशल मीडिया पर वायरल,तद्नुसार लगता है दिवंगत उइके मु,का,अधिकारी,ज,प,हरदा से काफी परेशान थे ।


🔷 कार्यालय जनपद पंचायत हरदा के कारण बताओं पत्र क्रमांक / 1979 /


पेंशन / ज,पं, / 2020 / दिनांक 06 / 6 / 2020 के माध्यम से दिवंगत उइके से जवाब चाहा गया था ,जिसमें संदर्भित पत्र क्रमांक / 616 / पेंशन / ज,पं हरदा दिनांक 17/ 02 /2020 एवं क्रमांक 993 /पेंशन / ज,पं /2020 हरदा दिनांक 04 / 03 / 2020 का भी उल्लेख था,पत्रानुसार मु ,का, अधिकारी द्वारा 0 3 दिवस में उत्तर चाहा था,उत्तर नहीं देने की दशा में अनुशासनात्मक कार्यवाही संस्थित करने का उल्लेख था ।


 


🔷 सीईओ के उपेक्षित व्यवहार से दिवंगत उइके मानसिक रूप से काफी व्यथित थें,जिसका उल्लेख उन्होंने ने दिनांक 09/06/2020 के अपने पत्र में किया है ।


🔷 दिवंगत उइके ने अपने जवाब पत्र दिनांक 09/06/2020 में उल्लेख किया है की मेरे द्वारा सोंपे गयें कार्य पूर्ण करने के पश्चात भी मुझे मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा है,जबकि संबधित ग्राम पंचायत के सचिव ओर ग्राम रोजगार सहायक को महोदय आपके द्वारा संरक्षण देकर बचाया जा रहा है।


🔷 खंड पंचायत अधिकारी होने के कारण मुझे महोदया द्वारा सभी शाखाओं के पत्र मार्क करके समयावधि में कार्य चाहे जाते हैं , जिसको में कोविड 19 कोरोना संक्रमण काल में कार्यालय में उपस्थित होकर पूर्ण किया है ।


🔷 अनेक कार्यों के साथ, मुझे क्लस्टर देवतलाब का प्रभार भी सोपा गया है, इतने सभी दायित्व निर्वहन करने में मैं अ समर्थ हूँ, क्लस्टर प्रभार से भार मुक्त करने हेतु निवेदन कर चूका हूँ ,किन्तु मेरे निवेदन पर ध्यान न देते हुए, मुझे एक के बाद एक कारण बताओं सूचना पत्र थमाये जा रहें हैं ।


🔷 दिवंगत उइके जी को क्षमता से अधिक कार्य लादकर ओर उनके अनुनय-विनय को नजरअंदाज जानबूझकर करके, सीईओ कुमारी नीलम रायकवार ने उन्हें मृत्यु कारित अवस्था तक पहुचाने का पूरा किरदार निर्वहन किया है,


जो जांच का विषय होकर आपराधिक कृत्य की परिधि का कृत्य हैं ।


🔷 सनद रहे, खंड पंचायत अधिकारी पद, तृतीय स्तरीय राजपत्रि (कार्यपालिक) अधिकारी श्रेणी का पद हैं ।


🔷 खंड पंचायत अधिकारी कंही भी क्लस्टर का प्रभार नहीं संभाल रहे हैं । , क्लस्टर का प्रभार पीसीओ / एडीओ / उपयंत्री / ही संभालते हैं, ना की खंड पंचायत अधिकारी ।


जबकि सचिव / ग्राम रोजगार सहायको को संरक्षण दिया जा रहा है ।


 🔷 इसी प्रकार से पीसीओ शंकर मंदराई को भी परेशान किया जा रहा है सीईओ कु;रायकवार द्वारा - सीईओ कु,रायकवार द्वारा बीपीओ उईके को ही नहीं अपने अधीनस्थो को परेशान करने का सिलसिला लंबे अंतराल से चला आ रहा है, इसी प्रकार से जनपद पंचायत हरदा में पदस्थ पीसीओ शंकर मंडराई को भी मानसिक रूप से अधिक परेशान किया जा रहा था, जिसकी शिकायत श्री मंडराई द्वारा पुलिस थाना हरदा,कलेक्टर,मानव अधिकार आयोग भोपाल,पंचायत राज संचानालय आदि वरिष्ठालयो को कि गयी है जिसकी जांच लंबीत हैं ।


🔷श्री मंडराई द्वारा कि गयी शिकायतों के पत्राचार भी सोशल मीडिया पर मुखरित हो रहें हैं । 


🔷 सीईओ ज,पं, द्वारा पीसीओ पर दबाव व कुछेक दुधारू सरपंच / सचिव / ग्राम रोजगार का बचाव एक दो ही नहीं अधिकाँश जनपदों में हो रहा है-सीईओ अपने बचाव के लिए, पीसीओ को बलि का बकरा बनाने के लिए कारण बताओ सूचना पत्र तैयार करके रख लेते हैं, ताकी सीईओ के सर पर कोई बात आती हैं, तब पीसीओ की नोकरी की बलि देकर स्वयं बच सकें,।


🔷 पीसीओ का ग्राम पंचायतों पर कोई वित्तीय नियंत्रण नहीं रहता है ना ही मूल्याकंन का अधिकार ,बावजूद इसके पंचायतों में हो रही वित्तीय अनियमितता के लिए पीसीओ पर दोष मढ दिया जाता है ।


🔷 दिवंगत खंड पंचायत अधिकारी सुमरत लाल उइके का उक्त पत्र वायरल होने से, मुख्य कार्यपालनअधिकारी जनपद पंचायत हरदा सुश्री नीलम रायकवार के व्यवहार को लेकर आक्रोश सोशल मीडिया पर मुखरित हो रहा है , ओर मु,का,अ, कुमारी नीलम रायकवार के विरुद्ध कार्यवाही करने पर चल रहा है विचार ।


Popular posts from this blog

बड़नगर की होटल शिव पैलेस में, पुलिस ने दी दबिश, एक युवक युवती को संदिग्ध अवस्था में लिया हिरासत में

रिश्वत कांड में टी, आई, अर्चना नागर एवं एस ,आई, जीवन भिडोरे सहीत तीन को किया पुलिस लाईन संबद्ध "मामला बड़नगर पुलिस थाने का"

पूर्व विधायक गंगाराम परमार का हुआ निधन,शोक लहर छाई