ग्राम पंचायत बज्जाहेड़ा के सरपंच जगदीश पंवार ने लिखी भ्रष्टाचार की इबारत - बज्जाहेड़ा की जनता को नहीं मिला शासकीय योजनाओं का लाभ - निजी उपयोग में हो रहा पंचायत की संपत्ति का उपयोग, सरपंच की दादागिरी से आमजन परेशान - वरिष्ठ अधिकारी के पास पहुंचे ग्रामीणों ने की सरपंच की शिकायत

🔷 ग्राम पंचायत बज्जाहेड़ा के सरपंच जगदीश पंवार ने लिखी भ्रष्टाचार की इबारत


🔷 बज्जाहेड़ा की जनता को नहीं मिला शासकीय योजनाओं का लाभ


 


🔷 निजी उपयोग में हो रहा पंचायत की संपत्ति का उपयोग, सरपंच की दादागिरी से आमजन परेशान


 



 


शाजापुर। राम-राम  जपना पराया माल अपना...... कुछ इसी तर्ज पर इन दिनों ग्राम पंचायत बज्जाहेड़ा में काम हो रहा है। ग्राम पंचायत को शासन से तो ग्राम विकास के लिए पर्याप्त राशि दी गई लेकिन उसका लाभ ग्रामीणों को तो नहीं मिला बल्कि सरपंच इसका निजी उपयोग कर रहा है।


 



    🔷 ग्रामीण जन


 


🔷 खुद ग्रामीण सरपंच की करनी और कारगुजारियों की कहानी बयां करते नहीं थकते। यही नहीं ग्राम पंचायत में इनके द्वारा भारी भ्रष्टाचार भी किया गया है जिसकी यदि जांच की जाए तो इन महाशय के सारे काले कारनामे सामने आ सकते हैँ।


🔷 यहां सरपंच का पद जगदीश पंवार संभाल रहे हैं जो अपनी करनी और काले कारनामो की वजह से खासी पहचान बना चुके हैं। जब भी ग्राम पंचायत में निर्माण या विकास के लिए जब भी शासन ने राशि जारी की वह निर्माण पूरा होने के पहले ही सरपंच की जेब की शोभा बढ़ाती है और विकास के नाम पर ग्रामीणों के हाथ कुछ नहीं लगता। यदि ये महाशय कभी ग्रामीणों पर मेहरबान भी होते हैं तो इनकी उस मेहरबानी पर पहले ही भ्रष्टाचार की परत चढ़ जाती है। इसका जीता जागता उदाहरण है एक वर्ष पहले दुलेसिंह के बाड़े से बस्ती तक बनाया गया सीसी रोड जो एक साल भी नहीं चल सका। इस रोड पर वाहन चलाना तो दूर पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। खुद ग्रामीण बताते हैं कि इससे अच्छा तो कच्च मार्ग था कम से कम दुर्घटनाएं तो नहीं हो रही थी। यदि बच्चे इस रोड पर चलते हैं तो रोड के बीचो बीच हो रही लंबी दरार में उनके पैर फंस जाते है जिससे कई बच्चे घायल हो चुके हैं। अपने बच्चों की इस हालत को देखकर अब ग्रामीण भी परेशान हो चुके हैं और सरपंच द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार की कहानियां गली-गली सुनी जा रही हैं।


🔷 जब सरपंच ने कोई सुध नहीं ली तो ग्रामीणों ने एकमत होकर जनपद सीईओ को लिखित में की है। ग्रामीणों ने अधिकारी को की गई शिकायत में बताया कि शासकीय योजनाओं का हमें लाभ नहीं मिला है और सरपंच द्वारा हमें कोई लाभ नही दिया जा रहा है। यहां गांव में भारी भ्रष्टाचार किया जा रहा हैँ जिसकी आप जांच करें और सरपंच के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए।


 


🔷 निजी भूमि पर बनाया शासकीय कुंआ, अपनी ओर अपनों की फसलों को मिल रहा लाभ


🔷 ग्रीन इंडिया क्लीन इंडिया के तहत शासन द्वारा ग्राम पंचायत बज्जाहेड़ा में भी शासकीय कुंआ खुदवाने के लिए राशि जारी की थी। इसके लिए जो जगह तय की गई थी वहां तो कुंआ नहीं बना और सरपंच जगदीश पंवार की दादागिरी और मनमानी के चलते यह कुंआ सरपंच की निजी जमीन पर ट्रांसफर हो गया जहां केवल सरपंच और उसके कुछ चट्टे-बट्टों के अलावा किसी को भी जाने की अनुमति नहीं है।


🔷 शासकीय योजना के तहत बनाए गए इस कुंए से केवल सरपंच और उसके खास लोगों की ही फसलें लहलहा रही है और शेष लोगों को अपने खेतों को तर करने के लिए पसीना बहाना पड़ रहा है। इस मामले को लेकर भी सरपंच ग्रामीणों के लिए सिर दर्द बना हुआ है और खुद ग्रामीण इसका विरोध करते नजर आ रहे हैं।



 


  🔷सरपंच जगदीश पंवार ☝


 


🔷 ग्रामीणों ने सुनाई आपबीती


प्रधानमंत्री आवास योजना का केवल नाम सुना है क्योंकि उसका लाभ आज तक नहीं मिला है। हम अपना पेट पालने के लिए गांव छोड़कर गांव-गांव की खाक छानते है तब जाकर हमारे यहां चूल्हा जलता है। सरपंच को केवल वोट मांगने आए थे तब देखा था उसके बाद से आज तक उन्होंने हमारी सुध नहीं ली है। हम लोग आज भी कच्चे मकान में रहकर बमुश्किल अपना जीवन-यापन कर रहे हैं। किसी दिन मजदूरी मिली तो ठीक नहीं तो भूखे पेट ही सोना पड़ता है।


 



🔷 जग्गूलाल, ग्रामीण - बज्जाहेड़ा☝


 


🔷 वृद्ध महिला हूं मेरा कोई सहारा नहीं है। सरपंच को वोट इसलिए दिया था कि हमारी सुध लेने वाला कोई होगा। लेकिन कोई लाभ नहीं मिला। पूरा मकान कच्चा है और बारीश में बहुत परेशानी होती है। सरपंच साहब से गुहार लगाई थी तो उन्होंने कहा था कि आऊंगा लेकिन आज तक नहीं आए। गांव वाले अच्छे लोग हैं जिन्होंने मदद की और मेरे घर की छत पर तिरपाल बांधी है ताकि बारीश के समय सिर पर छत रहेगी। सरपंच के भरोसे रहती तो छत से भी हाथ धोना पड़ता।


 



 


🔷 छीती बाई, ग्रामीण- बज्जाहेड़ा


 


🔷 इनका कहना है...


 


🔷 ग्राम पंचायत बज्जाहेड़ा के ग्रामीणों ने वहां के सरपंच द्वारा भ्रष्टाचार करने की शिकायत मिली है। मामले की जांच करवाई जाएगी। यदि मामला सही पाया जाता है तो सरपंच के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


 



🔷 मनीष भारद्वाज- मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत- शाजापुर


Popular posts from this blog

बड़नगर की होटल शिव पैलेस में, पुलिस ने दी दबिश, एक युवक युवती को संदिग्ध अवस्था में लिया हिरासत में

रिश्वत कांड में टी, आई, अर्चना नागर एवं एस ,आई, जीवन भिडोरे सहीत तीन को किया पुलिस लाईन संबद्ध "मामला बड़नगर पुलिस थाने का"

पूर्व विधायक गंगाराम परमार का हुआ निधन,शोक लहर छाई